हमारे संस्थान

ttc
टीचर ट्रेनिंग कॉलेज

टीचर ट्रेनिंग कॉलेज , बुद्धा ग्रुप ऑफ़ इंस्टिट्यूशंस के अन्तर्गत बी.एड. और डी.एल.एड. टीचर ट्रेनिंग पाठ्यक्रम के लिए जाना जाने वाला एक अग्रणी शिक्षण  संस्थान बोधगया , भगवान बुद्ध की भूमि , गया में स्थित है। यह संस्थान  पुरुष और महिला विद्यार्थियों दोनों के लिए शिक्षक शिक्षा प्रदान करता है और यह संस्थान मगध विश्वविद्यालय ,  बोधगया से संबद्ध है।

slide1
बुद्धा पॉलिटेक्निक इंस्टिट्यूट

बुद्ध पॉलिटेक्निक इंस्टिट्यूट गया , बिहार में स्थित ,आल इंडिया काउंसिल ऑफ़ टेक्निकल एजुकेशन (एआईसीटीई) द्वारा अनुमोदित , तकनीकी डिप्लोमा शिक्षा के क्षेत्र में प्रतिष्ठित संस्थान से एक है। बी.पी.आई . चार विषयो में बी.टेक (पॉलिटेक्निक / डिप्लोमा) की डिग्री प्रदान करता है -सिविल इंजीनियरिंग , इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग , मैकेनिकल इंजीनियरिंग , एवं इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग ।

biit
बुद्धा इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी

बुद्धा इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी गया, बिहार में स्थित,आल इंडिया काउंसिल ऑफ़ टेक्निकल एजुकेशन (एआईसीटीई) से अनुमोदित ,तकनीकी शिक्षा के क्षेत्र में प्रतिष्ठित संस्थान से एक है। संस्थान पांच विषयो में बी.टेक की डिग्री प्रदान करता है – सिविल इंजीनियरिंग, इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग, मैकेनिकल इंजीनियरिंग,कंप्यूटर साइंस एवं इलेक्ट्रॉनिक्स कम्युनिकेशन इंजीनियरिंग।

bitp
बीआईटी पॉलिटेक्निक कॉलेज

बीआईटी पॉलिटेक्निक कॉलेज,बिहार में स्थित,आल इंडिया काउंसिल ऑफ़ टेक्निकल एजुकेशन(एआईसीटीई) से अनुमोदित, डिप्लोमा इंजीनियरिंग के क्षेत्र में प्रतिष्ठित संस्थान से एक है।संस्थान पांच विषयो में बी.टेक(पॉलिटेक्निक/डीप्लोमा) की डिग्री प्रदान करता है-सिविल इंजीनियरिंग,इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग,मैकेनिकल इंजीनियरिंग,कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग , इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग

हमारे पाठ्यक्रम

टीचर ट्रेनिंग पाठ्यक्रम

बी.एड.

 बी.एड. का मतलब बैचलर ऑफ़ एजुकेशन है |यह एक पाठ्यक्रम  है जो शिक्षण और इससे संबंधित क्षेत्रों में प्रशिक्षण प्रदान करता है।बी.एड. की डिग्री उच्च प्राथमिक विद्यालयों और उच्च विद्यालयों में पढ़ाने के लिए अनिवार्य है। भारत में बी.एड. के लिए नियामक संस्था नेशनल काउंसिल ऑफ़ टीचर एजुकेशन  (एनसीटीई) है।

डी.एल.एड.

डी.एल.एड. का मतलब डिप्लोमा ईन एलीमेंट्री एजुकेशन है, जो एक टीचर ट्रेनिंग पाठ्यक्रम है | डिप्लोमा ईन एलीमेंट्री एजुकेशन पाठ्यक्रम एनसीटीई द्वारा अनुमोदित है | पाठ्यक्रम की अवधी दो वर्ष है |इस पाठ्यक्रम का उद्देश्य प्राथमिक स्तर पर प्रभावी ढंग से शिक्षण अधिगम प्रक्रिया को सफल बनाना है ।

पॉलिटेक्निक पाठ्यक्रम

सिविल इंजीनियरिंग

सिविल इंजीनियरिंग एक पेशेवर इंजीनियरिंग अनुशासन है जो भौतिक और प्राकृतिक संरचनाओं के निर्माण ,संरचना और देखरेख का कार्य करती है  जैसे की – सड़क रेलमार्ग , हवाई अड्डे , पुल, नहरों, बांधों, और इमारते आदि |

मैकेनिकल इंजीनियरिंग

मैकेनिकल इंजीनियरिंग वह अध्यन है जो  यांत्रिक प्रणालियों के डिजाइन, विश्लेषण, निर्माण और रखरखाव के लिए इंजीनियरिंग, भौतिक विज्ञान, और सामग्री विज्ञान का सिद्धांत लागू करता है। यह इंजीनियरिंग की शाखा है जिसमे  मशीनरी के डिजाइन, उत्पादन, और संचालन शामिल है।

इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग

इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग इंजीनियरिंग अनुशाशन की वह शाखा है जो इलेक्ट्रॉनिक सर्किट, उपकरणों , माइक्रोप्रोसेसरों , माइक्रोकंट्रोलर्स और अन्य प्रणालियों के डिजाइन करने के लिए गैर रेखीय और सक्रिय विद्युत उपकरणों जैसे की अर्धचालक उपकरणों, विशेष रूप से ट्रांजिस्टर, डायोड और एकीकृत सर्किट आदि का इस्तेमाल करते है।

इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग

इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग इंजीनियरिंग की वह शाखा है जो बिजली तकनीक के बारे में सिखाती है।इलेक्ट्रिकल इंजीनियर छोटे माइक्रोचिप्स से लेकर विशाल पावर स्टेशन जनरेटर के लिए उपकरणों , घटकों, और प्रणालियों की एक विस्तृत श्रृंखला और बिजली के उपकरणों के विनिर्माण का डिजाइन, विकास और प्रशिक्षण पर कार्य करते है|

इंजीनियरिंग पाठ्यक्रम

सिविल इंजीनियरिंग

सिविल इंजीनियरिंग एक पेशेवर इंजीनियरिंग अनुशासन है जो भौतिक और प्राकृतिक संरचनाओं के निर्माण ,संरचना और देखरेख का कार्य करती है  जैसे की – सड़क रेलमार्ग , हवाई अड्डे , पुल, नहरों, बांधों, और इमारते आदि |

मैकेनिकल इंजीनियरिंग

मैकेनिकल इंजीनियरिंग वह अध्यन है जो  यांत्रिक प्रणालियों के डिजाइन, विश्लेषण, निर्माण और रखरखाव के लिए इंजीनियरिंग, भौतिक विज्ञान, और सामग्री विज्ञान का सिद्धांत लागू करता है। यह इंजीनियरिंग की शाखा है जिसमे  मशीनरी के डिजाइन, उत्पादन, और संचालन शामिल है।

इलेक्ट्रॉनिक्स एवं कम्युनिकेशन इंजीनियरिंग

इलेक्ट्रॉनिक कम्युनिकेशन इंजीनियर विभिन्न संचार प्रणालियों में इस्तेमाल किये गए उपकरणों के अनुसंधान, डिजाइन, विकास और परीक्षण का कार्य करते हैं। इलेक्ट्रॉनिक इंजीनियरों कि वजह से ही हम  सेलुलर टेलीफोन, रेडियो और टेलीविजन अदि आधुनिक संचार उपकरणों का आनंद ले रहे है।

इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग

इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग इंजीनियरिंग की वह शाखा है जो बिजली तकनीक के बारे में सिखाती है।इलेक्ट्रिकल इंजीनियर छोटे माइक्रोचिप्स से लेकर विशाल पावर स्टेशन जनरेटर के लिए उपकरणों , घटकों, और प्रणालियों की एक विस्तृत श्रृंखला और बिजली के उपकरणों के विनिर्माण का डिजाइन, विकास और प्रशिक्षण पर कार्य करते है|

कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग

कंप्यूटर विज्ञान कंप्यूटर के डिजाईन और उपयोग करने के आधार  के सिद्धांत, प्रयोग, और इंजीनियरिंग  का अध्ययन है।एक कंप्यूटर वैज्ञानिक गणना के सिद्धांत और कम्प्यूटेशनल प्रणालियों के डिजाइन में माहिर होता है |इसके विभाग सैद्धांतिक और व्यावहारिक विषयों के कई  किस्म में विभाजित किये  जा सकते है।

योजनाये

Jump Months

october, 2019

No Events

प्रशंसापत्र